Friday, August 19, 2022
Homeन्यूज़न्यूज़कंपनी मैनेजरों ने जीएलए के छात्रों को बताये कोविड़ 19 से रोजगार...

कंपनी मैनेजरों ने जीएलए के छात्रों को बताये कोविड़ 19 से रोजगार पर पड़ने वाले प्रभाव

 

मथुरा। जीएलए विष्वविद्यालय मथुरा के बीटेक इलेक्ट्राॅनिक एण्ड कम्यूनिकेशन के छात्रों को कोविड़ 19 एवं महामारी से पड़ने वाले प्रभाव तथा रोजगार से संबंधित जानकारी देने के लिए आॅनलाइन अतिथि व्याख्यान का आयोजन किया गया। डिजाइन टेक सिस्टम में सहायक मैनेजर अखिलेश कुमार ने छात्रों को मशीन लर्निंग व डीप लर्निंग के बारे में अवगत कराया।
उन्हांेने बताया कि आर्टिफिशल इंटेलीजेंस में किस तरह से मशीन व डीप लर्निंग का अनुप्रयोग मेटलेब के माध्यम से कराया जा सकता है। आने वाले समय में यह रोजगार के नए आयाम विकसित करेगा। छात्रों को इस व्याख्यान के दौरान आने वाले समय में रोजगार के अवसर व शोध कार्य के बारे में भी अवगत कराया। शोध के माध्यम से मानव जीवन में बदलाव कैसे हों इस पर भी अखिलेश ने अपनी बात रखी।
डिजाइन टेक सिस्टम कंपनी में वरिष्ठ सेल्स मैनेजर अभिनव कुमार बिसारिया ने छात्रो को लो-आवर्ती इलेक्ट्रोमैगनेटिक प्रोडक्ट लाइन यूजिंग अल्टर फ्लक्स के बारे में अवगत कराया व उसके बारे में विभिन्न बिन्दुओं में समझाया। साथ में यह भी बताया कि इस तकनीक से कैसे वायरलेस चार्जिंग, सेंसर, पॉवर इलेक्ट्रॉनिक डिवाइस व मशीन किस तरह एक ही वाहन में कार्य कर सकते हैं और साथ ही यह भी बताया की एमईए बेस्ड सिमुलाशन टूल से किस तरह जोड़ेंगे।
नेताजी सुभाष यूनिवर्सिटी आॅफ टेक्नोलाॅजी में प्रो. प्रज्ञा वाष्र्णेय ने छात्रो को बताया सेंसर्स व ट्रांसड्यूसर इंस्टूमेंटल एनर्जी को एक रूप से दूसरे रूप में चेंज करता है। के रियल टाइम अनुप्रयोग के बारे में जानकारी देते हुए बताया कि इस तकनीक से इलेक्ट्रॉनिक डिवाइस व मशीन किस तरह से कार्य करेंगे व इस तकनीक से आने वाले समय में नए आयाम विकसित होंगे।
जीएलए के अल्यूमिनाई एवं लॉजिक लैडर कंपनी में मैनेजर पंकज कुमार ने विश्वविद्यालय से ली शिक्षा का अनुभव साझा किया। उन्होंने कहा कि इलेक्ट्राॅनिक एवं संचार विभाग में रोजगार के नए अवसर पर पैदा हो रहे हैं। आने वाला वक्त भी संचार का ही होगा। तत्पश्चात उन्होंने छात्रों को स्मार्ट इंस्टूªमेशन और उद्योगों के बारे में जानकारी दी। कहा कि शोध करने के लिए छात्रों को आगे आने की जरूरत है। ऐसे शोध के समय को छात्र हाथ से न जाने दें। विभिन्न मुद्दों पर कानून की सहायता हेतु रिसर्च करें। लोगों को कनेक्ट करने के लिए क्या-क्या सरलतम उपाय किए जा सकते हैं। इस पर भी विचार कर रिसर्च करने की आवश्यकता है।
अल्यमिनाई ने छात्रों को कोविड़ 19 के बारे में जानकारी देते हुए बताया कि हर हालात इससे बचने की जरूरत है। यह महामारी पूरी तरह से जिंदगी को बर्बाद कर सकती है। इस महामारी से देश में हालात सुधरने में बहुत लंबा वक्त लगेगा। छात्रों को उद्योग स्थापित करने के बारे में सोचने की जरूरत है।
अतिथियों का स्वागत करते हुए विभाग प्रमुख विनय कुमार देवलिया ने सभी को अतिथि व्याख्यान में भाग लेने पर धन्यवाद दिया।

RELATED ARTICLES
- Advertisment -

Most Popular

Recent Comments