Sunday, December 4, 2022
Homeन्यूज़न्यूज़जल निगम की धीमी कार्यप्रणाली से बिगड़ी शहर की सूरत

जल निगम की धीमी कार्यप्रणाली से बिगड़ी शहर की सूरत

 

मथुरा नगर में इन दिनों नमामि गंगे योजना के तहत जल निगम द्वारा सीवर की पाइप लाइन डालने का कार्य नगर भर में किया जा रहा है भरतपुर गेट से लेकर डीग गेट तक से लेकर अन्य गलियां और मथुरा वृंदावन रोड पर कई दिनों से खुदाई का कार्य चल रहा है इस कार्य की गति इतनी धीमी है कि जहां एक तरफ सुबह और शाम के वक्त और शहर में लंबा जाम लग जाता है ,,वही इन जगहों से उड़ने वाली धूल के चलते लोगों का निकलना मुश्किल हो जाता है,, पुलिस प्रशासन ने हालांकि वन वे ट्रैफिक की प्रणाली लागू की लेकिन उसका कोई सार्थक परिणाम नहीं निकला रोजाना के जाम के झाम से जनता को ही दो-चार होना पड़ता है,, कार्यदाई संस्था की लापरवाही का परिणाम है कि बिरला मंदिर के समीप एक मजदूर की पूर्व में मौत तक हो चुकी है लेकिन बावजूद इसके जल निगम ने अभी तक कोई सबक नहीं लिया है,, रोड चलता रहता है और जल निगम की पोकलेन मशीन और जेसीबी सड़क पर खुदाई करती रहती है वही यह सवाल ही पैदा होता है कि आखिर का जल निगम की कार्यप्रणाली और कार्रवाई संस्था की इतनी धीमी गति की मॉनिटरिंग आखिरकार कौन संस्था कर रही है क्या जिला प्रशासन इस लेटलतीफी को नहीं देख रहा है ऐसे में जब जबकि मथुरा धार्मिक नगरी है कोरोना महामारी के चलते भले ही इन दिनों मथुरा में श्रद्धालुओं की भीड़ ना के बराबर हो लेकिन यदि श्रद्धालुओं का आना शुरू हो जाए और बरसात का मौसम भी आने वाला है ऐसे में जगह-जगह गड्ढों में पानी भर जाए तो आखिरकार होने वाले हादसों का जिम्मेदार कौन होगा।

RELATED ARTICLES
- Advertisment -

Most Popular

Recent Comments