Saturday, June 19, 2021
Home विजय गुप्ता की कलम से पार्वती बुआ यथा नाम तथा गुण

पार्वती बुआ यथा नाम तथा गुण

रिपोर्ट – विजय कुमार गुप्ता

मथुरा। जब हम पैदा हुऐ जग हंसा हम रोऐ, ऐसी करनी कर चलौ हम हंसै जग रोऐ। एक थीं पार्वती देवी। भले ही उनको गुजरे लगभग चार दशक हो गए लेकिन उनकी करनी की वजह से आज भी उस समय की उनको जानने वाली पीढ़ी याद करती है। जैसा उनका नाम था ठीक वैसे ही उनके गुण थे। वे सचमुच में देवी स्वरूपा थीं।
बुआ जी के नाम से विख्यात पार्वती देवी गोविंद गंज के आढ़ती स्व. श्री पुरुषोत्तम दास एवं उनकी धर्मपत्नी श्रीमती बुद्दो देवी के यहां जन्मी थीं। पिता स्व. पुरुषोत्तम दास का देहांत उस समय हो गया जब वे लगभग छः-सात साल की थी। उनके छोटे भाई खचेरमल उर्फ नवल किशोर भी उस समय लगभग चार वर्ष के थे। माँ बुद्धो देवी, ताऊ श्री दामोदरदास और हर प्रसाद जी के संरक्षण में इन दोनों बहन-भाई का लालन-पालन हुआ।
जब पार्वती देवी बड़ी हुईं तो उनका विवाह कोयला वाली गली निवासी मनोहर लाल उर्फ मुनारे जी के साथ हुआ। पार्वती देवी बचपन से ही दयालु, परोपकारी एवं अत्यंत धार्मिक प्रवृत्ति की रहीं थीं तथा जीवन पर्यन्त उन्होंने अपने परोपकारी धर्म को निभाया। प्रातः चार बजे से पूर्व ही विश्राम घाट पर यमुना स्नान और फिर अपने लड्डू गोपाल की पूजा आराधना और मंदिरों में दर्शन के पश्चात परोपकार की दिनचर्या शुरू हो जाती थी। भजन-कीर्तन और सत्संग उनके स्वभाव की विशेषता थी। वे किसी से लेकर नहीं देकर और खाकर नहीं खिलाकर बहुत सिहाती थीं।
उनके कोई संतान नहीं थी, किंतु पास-पड़ौस तथा नातेदार-रिश्तेदार आदि सभी की संतान को वह अपनी संतान की तरह मानती थीं और सभी बच्चों को लेकर मेला, तमाशे और परिक्रमा आदि कराने ले जातीं तथा खिलाने-पिलाने से लेकर खेल-खिलौने आदि सभी व्यय अपने पास से करती थीं।
वह दयावान इतनी थीं कि नौकर-चाकर से लेकर अड़ौस-पड़ौस के गरीबों की गुपचुप मदद करती रहती थीं। उनके छोटे भाई खचेरमल उर्फ नवल किशोर की धर्मपत्नी श्रीमती रतन देवी का निधन लगभग पचास वर्ष की उम्र में हो गया। पार्वती देवी जो बुआ जी के नाम से प्रसिद्ध थीं, ने अपने छोटे भाई के सभी दसौं बच्चों का लालन-पालन भी ऐसे किया, जैसे कोई सगी माँ भी नहीं कर सकेगी। बचपन से लेकर अंत समय तक उन्हें किसी ने किसी से भी लड़ते झगड़ते नहीं देखा। वे अत्यंत शांत स्वभाव की भी थीं।
कुत्तों को रोटी, गायों को हरा चारा तथा कछुआ मछलियों को आटे की गोली खिलाना उनका प्रिय कार्य था। वह कीड़े मकोड़ों तक में बड़े दयालु भाव रखती थीं। नाली में गर्म पानी तक न खुद डालती थीं और न घर में से किसी को भी डालने देती थीं ताकि नाली के कीड़ों को कोई कष्ट न हो। उनके परोपकारी और दयालु स्वभाव के कारण पुरानी पीढ़ी के जो लोग बचे हैं। वह बुआ जी का नाम बड़ी श्रद्धा से लेते हैं और कहते हैं कि पार्वती बुआ तो साक्षात देवी स्वरूपा थीं। उनके स्मरण मात्र से मन श्रद्धानत हो उठता है। धन्य हैं ऐसी दिव्य आत्मा। हम सभी को बुआ जी के जीवन से प्रेरणा लेनीं चाहिए।

समाचार के अंदर बाॅक्स
प्राण त्यागने के समय ज्योति निकली थी
बुआ जी ने जब प्राण त्यागे थे, उस समय उनकी देह से एक ज्योति निकली थी और वह ज्योति शरीर से निकलकर ऊपर की ओर जाती देखी गई। अंतिम सांस लेने के समय उनके पास मौजूद गली पीर पंच निवासी पुराने सब्जी आढ़ती स्व. मनोहर पांडे की धर्मपत्नी श्रीमती चुन्नी देवी ने बताया कि मैंने उनके अंतिम समय पर एक अद्भुत दृश्य देखा था। जिसके अनुसार बुआ जी के शरीर से एक लोय निकली और धीरे-धीरे ऊपर की ओर उठी और गायब हो गई। चतुर्वेदी समाज में अग्नि की लौ को लोय बोलते हैं।
श्रीमती चुन्नी देवी बुआ जी के बारे में बताते-बताते भाव व्हिव्ल होकर रोने लगीं। यही स्थिति उनके पति की थी जो अब इस दुनियां में नहीं हैं। उन्होंने भी मुझे एक बार बुआ जी के बारे में बहुत कुछ बताया और इसी प्रकार वह भी बताते-बताते आंखों में आंसू ले आऐ।

Most Popular

अलर्ट: मौसम विभाग की यूपी के 27 जिलों को तूफान की चेतावनी

लखनऊ। ताउते तूफान का असर फिलहाल कम होता दिखाई नहीं दे रहा है। मौसम विभाग ने मुरादाबाद समेत उत्तर प्रदेश के 27 जिलों को...

यूपी में तूफान ताउते के चलते ऑरेंज अलर्ट जारी, इन जिलों में अगले 3 दिनों तक भारी बारिश

लखनऊ। अरब सागर से उठे चक्रवाती तूफान ताउते का असर लगभग पूरे उत्तर प्रदेश में भी देखने को मिल रहा है। आज सुबह से...

नहारे में प्रधानी चुनाव को लेकर चली अंधाधुंध गोलियां, पूर्व प्रधानपुत्र सहित 5 घायल

बरसाना। नहारे ग्राम पंचायत में प्रधानी चुनाव के दौरान दो प्रधान प्रत्याशियो ं के बीच खूनी संघर्ष हो गया। अंधाधुंध फायरिंग हुई। इसमें प्रधान...

यूपी में रविवार को लॉकडाउन लागू, मास्क न लगाने पर 1000 रुपए जुर्माना

लखनऊ। यूपी में तेजी से बढ़ते कोरोना के कदमों को रोकने के लिए यूपी सरकार ने प्रदेश में और सख्ती बरतने के निर्देश सभी...

Recent News

शादी में हाथी के कानों में गूंजा ढोल -नगाड़ा ,गुस्से में हाथी ने मचाया तांडव

प्रयागराज के वन अधिकारी एक शादी के लिए किराए पर लिए गए हाथी के मालिक के खिलाफ करवाई करने जा रहे है । जोरदार...

यह दुनिया का एकमात्र ऐसा होटल जहां करवट बदलते ही दूसरे देश में पहुंच जाते हैं

आज इस आर्टिकल में हम आपको दुनिया का एक ऐसा अजीबोगरीब होटल दिखाने जा रहे हैं जहां आप करवट बदलते ही दूसरे देश में...

होटल रूम में इस वजह से बिछाई जाती है सफेद चादर, यह है हैरान करने वाली सच्चाई

जब भी आप होटल में जाते हो तो उसके रूम में सबसे पहले आकर्षित करती है, तो वो होता है सफेद चादर से सजा...