Friday, February 3, 2023
Homeशिक्षा जगतजीएलए में जोश, जुनून और रंगारंग कार्यक्रमों के साथ नए साल का...

जीएलए में जोश, जुनून और रंगारंग कार्यक्रमों के साथ नए साल का स्वागत

मथुरा। नए जोश, जश्न, जुनून और जज्बे के साथ बीते वर्ष की खट्टी-मिठी यादों के बीच जीएलए विश्वविद्यालय में नववर्ष आगमन 2020 धूमधाम से मनाया गया। छात्र और शिक्षकों ने मिलकर वर्ष 2019 को रंगारंग कार्यक्रमों की प्रस्तुति के साथ विदाई दी।
देर सायं तक भक्ति संगीत की धुन पर छात्र और शिक्षक झूमते रहे। छात्र-छात्राओं ने जिंदगी को बेहतर बनाने से संबंधित प्रेरक कार्यक्रम प्रस्तुत किये तथा विद्यार्थियों ने नववर्ष के सांस्कृतिक कार्यक्रमों की श्रंखला में नृत्य, गीत, अभिनयकला, भजन, कविता, गजल, गीत, नृत्य नाटिकाओं के माध्यम से बहुत ही सुंदर व मनमोहक प्रस्तुतियां दीं।
विश्वविद्यालय के सेके्रटरी सोसायटी एवं कोषाध्यक्ष नीरज अग्रवाल ने सभी छात्र-छात्राओं और शिक्षकों, अभिभावकों, शुभचिन्तकों तथा सभी गणमान्य नागरिकों को नववर्ष की हार्दिक शुभकामनायें देते हुये कहा कि छात्र नए वर्ष में अपने लक्ष्यों को प्राप्त करें। नववर्ष सभी के जीवन में सुख, समृद्धि एवं शांति लेकर आए। उन्होंने शिक्षकों को संबोधित करते हुए कहा कि नए वर्ष के अवसर पर हम सभी को संकल्प लेना चाहिए कि हमें अपने जीवन में अज्ञानता रूपी अंधकार को समाप्त कर प्रकाश का आह्वान करना चाहिए, क्योंकि जब हम स्वयं प्रकाशित होंगे तभी हम छात्रों में प्रकाश भर सकेंगे।


कुलसचिव अशोक कुमार सिंह ने शुभकामनाएं दी और आशा की कि सभी शिक्षक बन्धु सहयोग देकर विश्वविद्यालय का गौरव बढ़ायें। प्रो. अग्रवाल ने कहा कि इस प्रकार के कार्यक्रमों से विद्यार्थियों की प्रतिभायें निखर कर सामने आती हैं और बच्चों का सर्वांगीण विकास होता हैं।
इस अवसर पर कुलपति प्रो. आनंद मोहन अग्रवाल, मुख्य परीक्षा नियंत्रक प्रो. अतुल बंसल, अंजनी राय, अमित अग्रवाल, विभिन्न विभागाध्यक्ष, राजकमल सिंह, दया केवलानी, फैजुल हसन, अरूण द्विवेदी आदि उपस्थित थे।

देखते और सुनते ही जाग गई उमंग

विश्वविद्यालय खुलते ही छात्रों और शिक्षकों में एक उमंग देखी गई, जो कि नववर्ष के आगमन पर विवि के केसी ग्राउंड मंे आयोजित आगमन 2020 कार्यक्रम में विभिन्न तरीकों के संगीत की धुनों पर छात्र और शिक्षकों ने थिरक कर समां बांध दिया। जिससे देखने वाले अन्य शिक्षक और छात्रों में भी उमंग पैदा हो गयी और वह भी थिरकने को मजबूर हो गये।

RELATED ARTICLES
- Advertisment -

Most Popular

Recent Comments