Tuesday, November 29, 2022
Homeन्यूज़न्यूज़हिंदुत्व व समाज के रक्षक थे राजा सूरजमल, प्रशासन ने मूर्ति हटाकर...

हिंदुत्व व समाज के रक्षक थे राजा सूरजमल, प्रशासन ने मूर्ति हटाकर किया है अपमान

मथुरा। डेंपियर नगर स्थित नारायण सर्किल में लगाई गई महाराजा सूरजमल की प्रतिमा को जिला प्रशासन और नगर निगम हटाने के बाद जाट समाज का रोष थमने का नाम नहीं ले रहा है। दो पूर्व मंत्रियों और विभिन्न दलों के लोगों से एक स्वर से शीघ्र ही प्रतिमा को सम्मान के साथ स्थापित कराने की मांग की है।
जिला प्रशासन व नगर निगम के लोगों ने शनिवार को डेंपियर नगर स्थित नारायण सर्किल में स्थापित महाराजा सूरजमल की प्रतिमा को हटा दिया था। इसके विरोध में पूर्व मंत्री सरदार सिंह व जाट नेता जितेंद्र सिंह जाट, पूर्व मंत्री तेजपाल सिंह, रालोद के जिलाध्यक्ष रामरसपाल सिंह पोनियां, पूर्व रालोद जिलाध्यक्ष राजेंद्र सिंह सिकरवार सहित विभिन्न दलों के पदाधिकारी इकट्ठा हो गए और धरना पंचायत करने लगे।
सभी ने एक स्वर से महाराजा सूरजमल की प्रतिमा को जिला प्रशासन द्वारा शीघ्र से शीघ्र सम्मान स्थापित कराने को कहा। पूर्व मंत्री सरदार सिंह व तेजपाल सिंह ने कहा कि महाराजा सूरजमल को जातिवादी शासक न होकर हिंदुत्व व समाज के रक्षक थे। उन्होंने जितनी भी लड़ाइयां लड़ी हिंदुत्व व समाज हित में लड़ी।
प्रशासन को महाराजा का इस तरह अपमान नहीं करना चाहिए था। समाज के लोगों का संकल्प है कि महाराजा सूरजमल की प्रतिमा को जिला प्रशासन सम्मान से स्थापित नहीं कराता, तब तक वे चैन से नहीं बैठेंगे। राजा सूरजमल की प्रतिमा स्थापित कराने को लेकर रामबाबू कटैलिया, जगदीश कौशिक, कांग्रेस जिलाध्यक्ष दीपक चौधरी, राजवीर सिंह नेता पार्षद दल, सूरज तौमर, देवंद्री देवी ठहनुआ, तिलकवीर सिंह, महेंद्र चौधरी, जय कुमार सिंह, प्रदीप चौधरी, मानवेंद्र पांडव, आरबी चौधरी, जेएस जाट, बबलू चौधरी, सुजीत प्रधान, राजेंद्र फैरारी, उमाशंकर सिंह आदि रहे।

RELATED ARTICLES
- Advertisment -

Most Popular

Recent Comments