Thursday, July 25, 2024
Homeन्यूज़बागपत - भाजपा के पूर्व जिलाध्यक्ष की गोली मारकर हत्या

बागपत – भाजपा के पूर्व जिलाध्यक्ष की गोली मारकर हत्या

बागपत जिले के कस्बा छपरौली निवासी भाजपा के पूर्व जिलाध्यक्ष संजय खोखर 53 पुत्र ओमप्रकाश प्रतिदिन मार्निंग वॉक के लिए पड़ोस के गांव हिलवाड़ा तक जाते थे। हिलवाड़ा से लौटे समय गांव के जंगल में रास्ते में पड़ने वाले अपने खेतों में भी संजय खोखर जाते थे। मंगलवार की सुबह छह बजे घर से भाजपा के पूर्व जिलाध्यक्ष संजय खोखर मार्निंग वॉक के लिए गए थे। लौटे समय उनके खेतों के पास कुछ बदमाशों ने उन्हें घेर लिया और तमंचे से तीन गोली मारकर संजय खोखर की हत्या कर दी। उनकी मौके पर ही मौत हो गई।

पुलिस महकमे में हड़कंप

गोली चलने की आवाज सुनकर ग्रामीण मौके पर पहुंचे और घटना की सूचना पुलिस को दी। भाजपा की पूर्व जिलाध्यक्ष की हत्या से पुलिस महकमे में हड़कंप मच गया। सीओ बड़ौत आलोक सिंह व इंस्पेक्टर दिनेश चिकारा मयफोर्स के मौके पर पहुंच गए और पूर्व भाजपा जिलाध्यक्ष के शव को कब्जे में ले लिया। साथ ही घटनास्थल को सीज कर दिया। घटना से भाजपाईयों में आक्रोश है।

पार्टी हाईकमान को अवगत करा दिया

भाजपा जिलाध्यक्ष सूरजपाल गुर्जर ने घटना से पार्टी हाईकमान को अवगत करा दिया है। साथ ही जिलाध्यक्ष ने पुलिस से हत्यारोपितों को पकड़ने की मांग की है। एसपी अजय कुमार सिंह ने बताया कि पूर्व जिलाध्यक्ष के पीठ, कनपटी व सीने में तमंचे से गोली मारकर हत्या की गई है। घटनास्थल से एक 315 का कारतूस भी मिला है। हत्यारोपितों की तलाश की जा रही है। जल्द आरोपितों को गिरफ्तार कर लिया जाएगा।

चार युवकों पर जताई हत्या की आशंका

पूर्व जिलाध्यक्ष के पुत्र अक्षय ने बताया कि दो दिन पूर्व पिता संजय खोखर जब मॉनिंग वॉक से लौट रहे थे, तो एक गाड़ी को अपने खेत के पास खड़ा पाया था। इस पर पिता खेतों के रास्ते घर लौटे थे। इसकी जानकारी उन्होंने परिजनों को दी थी। कई माह पूर्व उनका क्षेत्र के कुछ युवकों से विवाद हो गया था। पूर्व जिलाध्यक्ष के पुत्र ने उक्त विवाद के चलते चार युवकों पर पिता की हत्या करने की आशंका जताई है।

संजय छात्र राजनीति में हो गए थे सक्रिय

संजय खोखर करीब तीन साल भाजपा जिलाध्यक्ष रहे थे। 2019 लोकसभा चुनाव से पूर्व उन्हें जिलाध्यक्ष पद से हटाया था। पूर्व जिलाध्यक्ष ने सांसद डा. सत्यपाल सिंह को दोबारा टिकट दिए जाने का विरोध किया था। सांसद विरोधी खेमे में शामिल होने के चलते उन्हें पद से हटाया गया था। संजय खोखर बड़ौत में छात्र राजनीति से सक्रिय थे। छात्र राजनीति के बाद संजय खोखर ककौर में स्थित पूर्व माध्यमिक स्कूल में अध्यापक के पद पर तैनात थे

RELATED ARTICLES
- Advertisment -

Most Popular

Recent Comments