Friday, August 19, 2022
Homeन्यूज़आर्टीफिशियल इंटेलीजेंसी की महत्ता से रूबरू हुए राजीव एकेडमी के विद्यार्थी, आनलाइन...

आर्टीफिशियल इंटेलीजेंसी की महत्ता से रूबरू हुए राजीव एकेडमी के विद्यार्थी, आनलाइन गेस्ट लेक्चर में मुनेन्द्र गंगवाल ने साझा किए विचार

मथुरा। राजीव एकेडमी फार टेक्नोलोजी एण्ड मैनेजमेंट के एम.सी.ए. विभाग द्वारा गुरुवार को आर्टीफिशियल इंटेलीजेंसी (कृत्रिम बुद्धि) पर आनलाइन गेस्ट लेक्चर का आयोजन किया गया। मुख्य वक्ता मुनेन्द्र गंगवाल ने विद्यार्थियों को बढ़ते कम्प्यूटर उपयोग के संदर्भ में जानकारी देने के साथ ही आर्टीफिशियल इंटेलीजेंसी की खूबियों से अवगत कराया। गेस्ट लेक्चर का विषय था आर्टीफिशियल इंटेलीजेंसी।
के.वी.सी.एच. कम्पनी के सीनियर कार्पोरेट ट्रेनी मुनेन्द्र गंगवाल ने विद्यार्थियों को आर्टीफिशियल इंटेलीजेंसी विषय पर जानकारी देने से पहले कम्प्यूटर की कार्यप्रणाली और उसकी उपयोगिता से अवगत कराया। श्री गंगवाल ने छात्र-छात्राओं को बताया कि आर्टीफिशियल इंटेलीजेंसी कम्प्यूटर प्रोग्रामिंग की फिफ्थ लैंग्वेज का मुख्य आधार है। उन्होंने ह्यूरिस्टिक नेचुरल लर्निंग एण्ड एक्सपर्ट सिस्टम कांसेप्ट पर भी विस्तार से जानकारी दी जिसका विद्यार्थियों ने भरपूर लाभ उठाया।
श्री गंगवाल ने आर्टीफिशियल इंटेलीजेंसी को कार्यान्वित करने के बारे में जानकारी देते हुए कहा कि आने वाले समय में ए.आई. हमारे जीवन में महत्वपूर्ण भूमिका अदा करेगा। हम जैसा सोचेंगे वही कार्य इसके द्वारा सम्पादित किया जाएगा। सच कहें तो आने वाले समय में हमें आज जैसे अपने हाथ-पैर हिलाने या की-पैड पर टाइपिंग की जरूरत नहीं होगी।
श्री गंगवाल ने आर्टीफिशियल इंटेलीजेंसी अर्थात ए.आई. के महत्वपूर्ण क्षेत्रों में उपयोगों पर चर्चा की। उन्होंने कहा कि इन दिनों इसका सर्वाधिक उपयोग हेल्थ केयर, इण्डस्ट्री, व्यापार, कस्टमर केयर सर्विसेज, शिक्षा क्षेत्र, आटोमेट ग्रेडिंग देने, फायनेंस क्षेत्र तथा मैन्यूफैक्चरिंग इण्डस्ट्री में किया जा रहा है। उन्होंने विद्यार्थियों से कहा कि वे कम्प्यूटर के क्षेत्र में ए.आई. को अपने करियर निर्माण का प्लेटफार्म बना सकते हैं। श्री गंगवाल ने ए.आई. के संदर्भ में विद्यार्थियों द्वारा पूछे गए प्रश्नों के उत्तर देते हुए उनकी जिज्ञासा शांत की।
आर.के. एज्यूकेशन हब के अध्यक्ष डा. रामकिशोर अग्रवाल ने एम.सी.ए. के साथ-साथ अन्य कोर्सेस के विद्यार्थियों को भी उपयोगी ज्ञान सामग्री सतत उपलब्ध कराते रहने के संस्था के संकल्प को दोहराते हुए उनसे सतत् ज्ञान प्राप्ति में जुड़े रहने का आह्वान किया। संस्थान के निदेशक डा. अमर कुमार सक्सेना का कहना है कि कोरोना संक्रमणकाल में राजीव एकेडमी के छात्र-छात्राओं को पठन-पाठन में किसी प्रकार की दिक्कत न हो इसके सारे प्रबंध किए गए हैं।

RELATED ARTICLES
- Advertisment -

Most Popular

Recent Comments