Friday, December 2, 2022
Homeन्यूज़ब्राह्मण समाज को नीति चाहिए नेता नहीं :अर्चना तिवारी

ब्राह्मण समाज को नीति चाहिए नेता नहीं :अर्चना तिवारी

देश में ब्राह्मणों के प्रति भेदभाव, असामनता, उत्पीड़न एवं  नित्य प्रति हो रही आपराधिक एवं अपमानजनक घटनाओं से समाज भयभीत है।सरकार के ढुलमुल रवैया को देखते हुए अखिल भारतीय ब्राह्मण एकता परिषद ने विभिन्न राजनीतिक दलों को अपने अधिकारों के संरक्षण एवं लोकतंत्र में गरिमापूर्ण जीवन व्यतीत करने के लिए खुला पत्र लिखकर लोकतान्त्रिक मांगों को रखा जिसमे परिषद ने ब्राह्मणों के विरुद्ध जाति धर्म वर्ण के आधार पर होने वाली अपमानजनक, द्वेषपूर्ण टिप्पड़ियों तथा  संस्कारों, पूर्वजों, ऋषियों, महर्षियों, मुनियों एवं उनके द्वारा रचित ग्रंथो पर अनुचित टीका-टिप्पणी को संज्ञेय अपराध घोषित किया जाने की मांग की। परिषद ने कहा कि ओबीसी वर्ग की तरह ब्राह्मण  बच्चों को भी फीस, पुस्तक, स्कालरशिप आदि की सुविधाएं दी जाए एवं सवर्ण आयोग का गठन किया जाय।परिषद की यह भी मांग है कि जाति और धर्म को निशाना बनाने वाले वेबसाइट, टीवी चैनल, फ़िल्म, धारावाहिक, यूट्यूब चैनल, फेसबुक पेज, पुस्तकें आदि जितने भी माध्यम हैं, उन्हें तत्काल प्रतिबंधित किया जाय और इस कृत्य को गम्भीर अपराध की श्रेणी में रखा जाय इसके साथ यह भी मांग रखी कि भगवान परशुराम जी के जन्मदिवस को सार्वजनिक अवकाश घोषित किया जाय।
परिषद के प्रदेश महिला अध्यक्ष पं अर्चना तिवारी ने हमारे संवाददाता से बात करते हुए कहा कि हम लोग भी इस लोकतान्त्रिक देश के भाग है। हमें संवैधानिक रूप से अपनी मांगे रखने का पूरा हक है और हमारे समाज को अब अपने अधिकारों को संरक्षित करने वाली नीतियाँ चाहिए नेता नहीं। नेता पहले भी बहुत थे आज भी हर दल में हैं किन्तु बिना नीति-नियम के किस काम के? जिस दल को हमारे समाज का समर्थन चाहिए वह इसे वर्तमान में ही अपने शासित राज्य में तत्काल लागू करे और जो राजनीतिक व्यक्ति विशेष जो अपने दल से अलग हमसे सहमत है, वह अपने दल के मुखिया को पत्र जारी कर इन मांगों को मानने का अनुरोध पत्र भेजकर पत्र को सार्वजनिक करे। इस अभियान में पं अर्चना तिवारी अध्यक्ष उत्तर प्रदेश, नम्रता शुक्ला प्रदेश संयोजक मध्य प्रदेश, प्रतिमा पाण्डेय जिलाध्यक्ष गाजियाबाद, प्रभा पाण्डेय जिलाध्यक्ष हरिद्वार, अंजू पाण्डेय जिलाध्यक्ष भाटापारा, , स्मिता त्रिपाठी जिलाध्यक्ष बाँदा , शिवानी शुक्ला जिलाध्यक्ष जौनपुर (सांस्कृतिक प्रकोष्ठ ), पुष्पलता त्रिपाठी जिलाध्यक्ष कुशीनगर, कनकलता त्रिपाठी जिलाध्यक्ष प्रयागराज, यामिनी शर्मा जिलाध्यक्ष रायपुर, प्रतिभा दूबे जिलाध्यक्ष ग्वालियर, मीनू पाठक जिलाध्यक्ष बदायूं, चंचला शुक्ला, गोरखपुर, अर्चना शुक्ला गोरखपुर,शिवा गोस्वामी जिलाध्यक्ष जालौन आदि अखिल भारतीय ब्राह्मण एकता परिषद परिवार  की बहनें सम्मलित हुई।

RELATED ARTICLES
- Advertisment -

Most Popular

Recent Comments