Thursday, May 19, 2022
HomeUncategorizedजीएलए को एनपीटीईएल रैंकिंग में प्रदेश में मिला दूसरा स्थान

जीएलए को एनपीटीईएल रैंकिंग में प्रदेश में मिला दूसरा स्थान


मथुरा। जीएलए विश्वविद्यालय, मथुरा को एनपीटीईएल (नेशनल प्रोग्राम ऑन टेक्नोलॉजी एन्हांस्ड लर्निंग) की रैंकिंग में पहली बार प्रदेश में दूसरा और देश में 12वां स्थान मिला है। यह रैंकिंग संस्थान के विद्यार्थियों के द्वारा एनपीटीईएल कोर्स में प्रतिभाग कर अच्छी परफार्मेंस के आधार पर जारी की गयी है।
बीते दिनों मिनिस्ट्री ऑफ़ एजुकेशन द्वारा संचालित स्वयं प्लेटफार्म पर टाॅप 100 एनपीटीईएल लोकल चैप्टर रैंकिंग जारी हुई है। इसमें देश के बेस्ट परफार्मेंस वाले 100 संस्थानों की सूची जारी की गई। इसमें जीएलए विश्वविद्यालय, मथुरा का भी नाम शामिल है। इस सूची में जीएलए को टाॅप 100 एनपीटीईएल लोकल चैप्टर रैंकिंग में उत्तर प्रदेश में दूसरा और भारत देश में 12वीं रैंकिंग हासिल हुई है। यह रैंकिंग विद्यार्थियों की बेहतर परफार्मेंस के आधार पर जारी की जाती है। इसके अलावा यह रैंकिंग इस बात का भी प्रमाण है कि विश्वविद्यालय स्तर से इंजीनियरिंग, मैनेजमेंट, साइंस आदि विषयों में उत्कृष्ट शिक्षा प्रदान की जा रही है।


विदित रहे कि पिछले तीन वर्षों में जीएलए के 5 हजार से अधिक विद्यार्थियों ने एनपीटीईएल लोकल चैप्टर कोर्स करने के लिए रजिस्टेªषन कराया। इनमें में 2400 से अधिक विद्यार्थी सर्टिफिकेट हासिल कर चुके हैं। इनमें से 25 से अधिक विद्यार्थियों को गोल्ड़ सर्टिफिकेट, 500 से अधिक को सिल्वर एवं 130 से अधिक विद्यार्थियों को टाॅपर का सर्टिफिकेट हासिल हुआ है। बाकी विद्यार्थी अपना कोर्स करने में पूर्ण योगदान दे रहे हैं। इसके अलावा इलेक्ट्रिकल इंजीनियरिंग विभाग के असिस्टेंट प्रोफेसर परेश चन्द साहू ने डिसिप्लिन स्टार का सर्टिफिकेट हासिल किया है। साहू को यह सर्टिफिकेट 50 सप्ताह से अधिक की एनपीटीईएल लर्निंग कर यह सर्टिफिकेट मिला है।
जीएलए से एनपीटीईएल लोकल चैप्टर के काॅर्डिनेटर एवं असिस्टेंट लाइब्रेरियन डाॅ. अजय कुमार शर्मा ने बताया कि तीन वर्ष से विश्वविद्यालय के विद्यार्थियों के लिए एनपीटीईएल लोकल चैप्टर संचालित है। विद्यार्थियों द्वारा एनपीटीईएल प्लेटफॉर्म पर विभिन्न सर्टिफिकेशन कोर्स किए जा रहे हैं। बेहतर ग्रेड भी प्राप्त किए जा रहे हैं। विद्यार्थियों के कौशल एवं उद्यमिता विकास के लिए उक्त प्लेटफाॅर्म पर उपलब्ध पाठ्यक्रमों को करने के लिए प्रोत्साहित किया जा रहा है। इसी कारण जीएलए को एनपीटीईएल में डबल ए स्कोर प्राप्त है।
प्रतिकुलपति प्रो. अनूप कुमार गुप्ता ने बताया कि आइआइटी के प्रोफेसरों द्वारा एनपीटीईएल पर संचालित किए जा रहे कोर्सों को करने में तो विद्यार्थियों में अच्छी जिज्ञासा देखने को मिल ही रही है, बल्कि स्वयं प्लेटफाॅर्म पर भी जीएलए के प्रोफेसरों के रिकाॅर्डेड लेक्चरर उपलब्ध हैं। इन रिकाॅर्डेड लेक्चर के माध्यम से विद्यार्थी षिक्षा प्राप्त कर रहे हैं। यह सभी कोर्स यूजीसी, एआईसीटीई और भारत सरकार के षिक्षा मंत्रालय से मान्यता प्राप्त हैं।

RELATED ARTICLES
- Advertisment -

Most Popular

Recent Comments