Sunday, June 23, 2024
Homeशिक्षा जगतलिथुआनिया के डेलीगेट्स ने किया जीएलए विश्वविद्यालय का भ्रमण

लिथुआनिया के डेलीगेट्स ने किया जीएलए विश्वविद्यालय का भ्रमण

-जीएलए विश्वविद्यालय के विद्यार्थियों से रूबरू हुए लिथुआनिया यूनिवर्सिटी के डेलीगेट्स

मथुरा। जीएलए विश्वविद्यालय, मथुरा विश्वस्तरीय शिक्षा प्रदान करने के लिए जाना जाता है। इसी विश्वस्तरीय शिक्षा को और प्रगाढ़ बनाये रखने के लिए जीएलए में अधिकतर दिनों विदेशी डेलीगेट्स भ्रमण कर विद्यार्थियों से रूबरू होते रहते हैं। बीते दिनों विलनियस गेडिमिनस टेक्निकल यूनिवर्सिटी, विलनियस लिथुआनिया (यूरोप) के चार सदस्यों ने विश्वविद्यालय का भ्रमण किया।

विलनियस टेक्निकल यूनिवर्सिटी के प्रतिनिधिमंडल में इलेक्ट्राॅनिक सिस्टम्स विभाग के प्रमुख प्रो. (डॉ.) आर्टुरास सेराकिस, यांत्रिकी संकाय के वाइस डीन डॉ. क्रिस्टीना बाजीन, अंतर्राष्ट्रीय अध्ययन केंद्र के मुख्य समन्वयक डोविले जोडनीटे और भारतीय ऑफिस से दीपेंद्र बावा ने जीएलए विश्वविद्यालय के पदाधिकारियों से मुलाकात की। प्रतिनिधियों का स्वागत कम्प्यूटर इंजीनियरिंग एंड एप्लीकेशन विभाग के एसोसिएट प्रोफेसर डॉ. राहुल प्रधान ने किया।

प्रतिनिधियों ने विश्वविद्यालय के विभिन्न विभागों, अनुसंधान केन्द्रों और छात्रावासों का दौरा किया। उन्होंने विभिन्न शैक्षणिक ब्लॉक, औद्योगिक विकास के लिए सीएसईडी-डीएससी केंद्र और स्टार्ट-अप और नवाचार के लिए स्थापित न्यूजेन आईइडीसी का दौरा किया है। इस दौरान प्रतिनिधिमंडल विश्वविद्यालय की सुविधाओं से काफी प्रभावित दिखे और जीएलए विश्वविद्यालय, मथुरा द्वारा छात्रों को प्रदान की जा रही सुसज्जित और प्रभावषाली सुविधाओं की प्रशंसा की। उन्होंने यूनिवर्सिटी में स्पोर्ट्स कॉम्प्लेक्स, कैफेटेरिया और मैस भी देखा।

तत्पश्चात प्रतिनिधि मंडल ने इलेक्ट्राॅनिक्स एंड कम्युनिकेशन इंजीनियरिंग और मैकेनिकल इंजीनियरिंग विभाग के विभागाध्यक्षों के साथ चर्चा की। जहां दोनों पक्षों ने बीटेक ईसी और बीटेक एमई में एक संयुक्त डिग्री कार्यक्रम शुरू करने की संभावनाओं पर जोर देते बताया कि नए पाठ्यक्रम में विद्यार्थी जीएलए के 4 वर्षीय कोर्स में से 2 वर्ष का कोर्स पूरा कर आगामी 2 वर्ष विलनियस यूनिवर्सिटी में पूरा करेंगे। इसी के साथ दोनों पक्षों ने आवास, शिक्षण शुल्क और क्रेडिट हस्तांतरण के मुद्दे पर चर्चा के बाद महत्वपूर्ण बिन्दु अनुसंधान, संयुक्त प्रकाशन, अंतर्राष्ट्रीय वित्त पोषण वाली परियोजनाओं, छात्र विनिमय के अवसर, लघु पाठ्यक्रम, संकाय विनिमय, संयुक्त डिग्री कार्यक्रमों में सहयोग के लिए अपनी इच्छा व्यक्त की।

डीन इंटरनेशनल एंड एकेडमिक कोलैबोरेशन प्रो. दिलीप कुमार षर्मा ने बताया कि विश्वस्तरीय शिक्षा के लिए जीएलए ने विदेश में कई संस्थाओं के साथ अपने अंतर्राष्ट्रीय संबंधों को बेहतर बनाया है। बेहतर संबंधों के आधार पर ही आये दिन विदेषी प्रतिनिधिमंडल जीएलए विश्वविद्यालय के दौरे पर रहते हैं। इस दौरे के दौरान विदेशी प्रतिनिधिमंडल शिक्षकों के साथ-साथ विद्यार्थियों से रूबरू होकर विश्वविद्यालय के पदाधिकारियों से आगामी संभावनाओं पर विचार विमर्ष कर एमओयू के माध्यम से विद्यार्थियों को अनुसंधान और अच्छी शिक्षा प्रदान करने के लिए अग्रसारित करता है।

कुलपति प्रो. फाल्गुनी गुप्ता ने लिथुआनिया (यूरोप) के प्रतिनिधिमंडल की सराहना की। उन्होंने बताया कि विलनियस टेक्निकल यूनिवर्सिटी यूरोप के शीर्ष विश्वविद्यालयों में से एक है और वास्तुकला निर्मित पर्यावरण व्यवसाय, प्रबंधन, अर्थशास्त्र आदि क्षेत्रों में उच्चतम स्कोर पर है। क्यूएस वर्ल्ड यूनिवर्सिटी रैंकिंग के अनुसार इसकी समग्र रैंकिंग 701-750 है।

डीन एकेडमिक प्रो. आशीष शर्मा ने प्रतिनिधियों को विश्वविद्यालय की शैक्षिक, अनुसंधान और आवासीय सुविधाओं से परिचित कराने के लिए जीएलए विश्वविद्यालय के बारे में एक प्रस्तुति दी। इस अवसर पर एसोसिएट डीन एकेडमिक डाॅ. आशीष शुक्ला, डीन रिसोर्स जनरेषन एंड प्लानिंग प्रो. दिवाकर भारद्वाज, विभागाध्यक्ष प्रो. विनय कुमार देवलिया, प्रो. पीयूष सिंघल और प्रो. नवीन कुमार गुप्ता आदि उपस्थित रहे।

RELATED ARTICLES
- Advertisment -

Most Popular

Recent Comments