Monday, April 22, 2024
Homeन्यूज़चालीस दिनों में होली के सौ पद सुनेंगी भानु दुलारी

चालीस दिनों में होली के सौ पद सुनेंगी भानु दुलारी

लाडली जी मंदिर में होली की मस्ती में डूबे श्रद्धालु

लाडली जी मंदिर में समाज गायन के दौरान राधारानी को होली के पद सुनाते गोस्वामी समाज के लोग।

रिपोर्ट राघव शर्मा

बरसाना: आयो ऋतुराज बसन्त चलो सखि नंदराय गृह जइये, प्रीतम श्याम कमलदल लोचन न्यौत कछुक दिन लइये आदि होली के पद राधारानी को सुनाए जा रहे। बसंत पंचमी से शुरू हुई चालीस दिवसीय समाज गायन के दौरान गोस्वामी समाज के लोगों द्वारा रोजाना शाम को एक घन्टा बृषभान नन्दनी को होली के पद सुनाते है। चालीस दिनों में राधारानी को करीब 100 पद सुनाए जाएंगे। यह पद प्राचीन कवियों द्वारा लिखे हुए है।

बरसाना में होली की धूम मची हुई। लाडिली जी मंदिर पर अबीर गुलाल उड़ रहा है तो वहीं श्रद्धालु अबीर गुलाल के रंग में सराबोर हो रहे है। बसंत से शुरू हुआ होली का धमार धुलेंडी तक चलेगा। चालीस दिवसीय फाग महोत्सव के चलते राधारानी मंदिर पर समाज गायन चल रहा है। समाज गायन के दौरान गोस्वामी समाज के लोग राधारानी को रोजाना होली के पद सुना रहे है। बसंत के दिन ललित लवंग लता परिशीलन कोमल मलय समीरे।
मधुकर निकर करम्बित कोकिल कूजित कुंज कूटीरे!
उन्मद मदन मनोरथ पथिक बधुजन जनित विलापे।
अलि कुल संकुल कुसुम समूह निराकुल बकुल कलापे!! आदि पदों की प्रस्तुति हुई। वहीं महाशिवरात्रि के दिन ‘‘रूप बावरो नन्द महर सौ वौहर बनौ होरी को छैल रोकत टोकत घूंघट खोलत भर पिचकारी तकत पुरोजन यही भरे जौवन के फैल’’ बरसानौ हमारी रजधानी गहवरवन और खोर सांकरी,,। आदि पदों की प्रस्तुति की जाएगी। जबकि समाज गायन के समापन के दौरान आखिरी पद ढप धर दै यार गई परकी, जौ जीवेगों सो खेलोगे गया जाएगा। गोस्वामी समाज के मुखिया रामभरोसी मुखिया ने बताया कि राधारानी मंदिर में होली के पदों का गायन बसंत से शुरू हुआ है। जो चालीस दिनों तक चलेगा। समाज गायन के दौरान जयदेव आदि कवि के पदों का गायन किया जाता है। सेवायत राम गोस्वामी ने बताया कि लाडली जी मंदिर में होली की धूम मची हुई है। श्रद्धालु अबीर गुलाल में सराबोर होकर होली का आनंद ले रहे है। वहीं लठामार होली की प्रथम चौपाई महाशिवरात्रि तथा द्वितीय चौपाई लड्डू होली के दिन निकाली जाएगी।

RELATED ARTICLES
- Advertisment -

Most Popular

Recent Comments