Monday, April 22, 2024
Homeविजय गुप्ता की कलम सेजब रामकिशोर जी बने अप्रैल फूल

जब रामकिशोर जी बने अप्रैल फूल

  मथुरा। उड़ती चिड़िया के पर गिनने और बंद लिफाफे का मजमून भांप लेने की महारत रखने वाले डॉक्टर रामकिशोर अग्रवाल एक बार ऐसे अप्रैल फूल बने की चारों खाने चित्त जा गिरे।
     बाद लगभग एक दशक पुरानीं है। एक बार उन्होंने मुझसे कहा था कि गुप्ता जी जब भी कभी तुम्हें मेरी जरूरत हो तो बताना और चाहो जो ले जाना दस, बीस, पच्चीस, पचास तक जितना भी। यह बात उन्होंने मुझसे प्रेम वश कही। वह हमारे अंतरंग मित्र हैं तथा हर मौके पर उन्होंने मित्रता निभाई और हमेशा मेरी बात रखी।
     मैंने उनसे कहा कि रामकिशोर जी में इस स्वभाव का नहीं हूं यदि कभी में पचास लाख तो दूर पचास रुपए भी मांगने आ गया तो फिर मुझे जिंदा होते हुए भी मरे के समान समझना। रामकिशोर जी बोले कि हां यह बात तो मैं जानता हूं। मैंने मन ही मन में कहा कि जब जानते हो तो फिर यह क्यों कह रहे हो? और फिर मैंने उन्हें मजा चखाने की ठान ली।
     एक डेढ़ महीने बाद एक अप्रैल का दिन आया, मैंने सोचा कि इससे अच्छा मौका कब मिलेगा। मैंने एक सादा कागज लिया और उस पर लिखा “अप्रैल फूल” फिर उस कागज को मोड़कर एक लिफाफे में रख दिया  और उसे स्टैपलर पिन से बंद कर दिया। स्टैपलर भी दस बारह जड़ दिए ताकि कोई उसे जल्दी से न खोल सके।
     फिर मैंने रामकिशोर जी को फोन किया और कहा कि मुझे आपके सहयोग की सख्त जरूरत है। वे बोले कि बताओ क्या सहयोग करूं? तब मैंने कहा कि मैं आपके पास आकर बताऊंगा। इस पर उन्होंने कहा कि आ जाओ, मैं केडी डेंटल कॉलेज में बैठा हुआ हूं। मुझे पता था कि उस समय वे डेंटल कॉलेज में ही रहते हैं, क्योंकि केडी मेडिकल की अपेक्षा केडी डेंटल ज्यादा नजदीक है। इसीलिए मैंने उसी समय फोन किया, मैंने कहा कि ठीक है अभी थोड़ी देर में पहुंचता हूं।
     मैंने अपना स्कूटर उठाया और थोड़ी देर में केडी डेंटल पहुंच गया। पहुंचते ही मैंने फोन करके कहा कि मैं आ गया हूं, इतना सुनते ही वे तुरंत अपने कक्ष से निकलकर बाहर आ गए और मुझे अलग से एक अन्य कमरे में ले गए और बोले कि गुप्ता जी बताओ क्या परेशानी है। मैंने बनावटी घबराहट दिखाते हुए कहा कि रामकिशोर जी मैं बड़ी भारी मुसीबत में फंस गया हूं। मुझे दस लाख रुपयों की तत्काल आवश्यकता है, वे बोले कि ऐसी क्या बात हो गई? मैंने कहा कि सारी बात मैंने लिखकर इस लिफाफे में रख दी है, वे बोले कि लाओ लिफाफे को। मैंने कहा कि मैं चला जाऊं तब इत्मीनान से पढ़ लेना। वे बोले क्यों? तब मैंने कहा कि मामला कुछ ऐसा ही है। इसे आपको पढ़वाने के बाद मैं आपको फेस नहीं कर पाऊंगा।
     खैर कुछ मिनट तक जद्दोजहद होती रही। वह बार-बार मेरे हाथ से लिफाफा लपकने को हाथ बढ़ाएं और मैं दूं नहीं। अंत में उन्होंने लिफाफा लेकर कहा कि ठीक है कल व्यवस्था कराता हूं और फिर लिफाफे से स्टैपलर पिनों को नोचने की कोशिश करने लगे। तब मैंने झल्ला कर उनसे कहा कि तुम्हें मेरी कसम है इसे मत खोलो और साफ-साफ बताओ कि कल कितने की व्यवस्था करा दोगे? मेरे पैरों के नीचे की जमीन खिसकने लगी कि कहीं यह पूरी रकम देने की हां न कह दें, वर्ना मेरा पासा ही पलट जाएगा। मैं चाहता था कि वह अपने हाथ खड़े कर दें।
     मैंने उनसे कहा कि रामकिशोर जी में इस समय जल्दी में हूं। आप केवल यह स्पष्ट बता दो कि कल क्या करा दोगे? ताकि मैं फिर बाकी का इंतजाम और कहीं करूं। बताओ एक कराओगे, दो कराओगे या और ज्यादा। इस पर वे बोले कि अरे गुप्ता जी एक दो क्या ज्यादा ही कराऊंगा, तीन साढ़े तीन तो ले ही जाना। मुझे यह प्रतीत हो रहा था कि वह कम से कम पांच तो देने की सोच ही रहे हैं और हो सकता है ज्यादा की भी हां हो जाए जो मैं चाहता नहीं था।
     खैर जब उन्होंने मेरी ओर से ही एक दो की आवाज सुनी तो फिर उन्होंने भी तीन साढ़े तीन की कह दी। मैंने लिफाफा उनके पास छोड़ा और भाग कर बाहर आया तथा अपने मोबाइल का स्विच ऑफ कर दिया और जल्दी से स्कूटर उठाकर भाग लिया। क्योंकि मुझे डर था कि वह एक-दो मिनट में लिफाफे को खोलकर देख न लें और बाहर आकर मुझे पकड़ ना लें।
     मैं दौड़ा दौड़ा घर आ गया। घर आते ही मैंने पसीने में तरबतर हो रहे कपड़े उतारे और पंखा चलाकर सुस्ताने लगा। इसी मध्य मैंने मोबाइल का स्विच भी खोल दिया, जैसे ही स्विच खोला फौरन रामकिशोर जी का फोन आ गया। मेरे फोन उठाते ही बोले कि आज हमारे अलावा और कौन-कौन को मूर्ख बनाया तथा बोले कि वाह गुप्ता जी वाह, तुमने तो कमाल कर दिया। कैसी गजब की एक्टिंग की, मान गया आपको। मैंने भी जवाब दिया कि रामकिशोर जी तुम्हारे जैसे छटे छटाऐ शातिर बदमाश को कब्जे में लेना कोई हंसी मजाक नहीं है।
     फिर वह बोले कि भाई मैं तो पांच की सोचे बैठा था क्योंकि कल किसी जरूरी काम के लिए 60-65 लाख का इंतजाम करना था वर्ना पूरे ही करा देता। मैंने कहा कि मुझे इससे कोई मतलब नहीं मुझे तो सिर्फ आपको शीशा दिखाना था। रामकिशोर जी ने मेरे इस नालायकी भारे नाटक को कई दिन तक अपने पास आने वाले तमाम लोगों को हंस-हंसकर खूब सुनाया।
     खैर जो भी हो रामकिशोर जी की मोहब्बत को मैं तहे दिल से सलाम करता हूं। वह एक नहीं अनेक बार मेरी नालायकियों को अंदर अंदाज करते रहे हैं तथा हर दुःख सुख में मेरे साथ खड़े रहे हैं। उनके प्यार को एक नहीं अनेक बार नमन। ईश्वर उन्हें पूर्ण रूपेण स्वस्थ रखें और शतायु करें।

विजय गुप्ता की कलम से

RELATED ARTICLES
- Advertisment -

Most Popular

Recent Comments