Monday, April 22, 2024
Homeन्यूज़न्यूज़ब्रज में कान्हा के जन्म के बाद छाईं काली घटाएं, दिन में...

ब्रज में कान्हा के जन्म के बाद छाईं काली घटाएं, दिन में हुई रात और फिर हुई झमाझम बारिश

मथुरा। ब्रज में कान्हा के जन्मोत्सव पर इन्द्रदेव भी प्रसन्न हो गए हैं। सुबह से ही काली घटाओं के छा जाने से दिन में ही रात हो गई और उसके बाद झमाझम बारिश होने से जहां मौसम खुशनुमा हो गया। वहीं मथुरा, वृंदावन में जगह-जगह जलभराव हो गया। मथुरा तालतलैया में तब्दील हो गया। लोगों को आवागमन में काफी परेशानी का सामना करना पड़ा।

एक दिन पहले श्रीकृष्ण जन्माष्टमी के दिन से ही बादल छाने लगे थे। हल्की बूदें भी पड़ी थी। रात में भी बारिश हुई। दूसरे दिन मंगलवार को नन्दोत्सव पर सुबह से ही काले बादल छा गए। जिसे एकबार दिन में ही रात हो गई और दोपहर होते-होते तेज बारिश हो गई।

श्री कृष्ण के जन्मोत्सव बारिश प्रकृति का शुभ संकेत

पंडितों का कहना है कि भगवान कृष्ण के जन्मोत्सव बारिश प्रकृति का शुभ संकेत है। आध्यात्मिक रुप से भी यह शुभ है। देवता भी भगवान कृष्ण के जन्मोत्सव पर प्रसन्न होकर धराधाम पर बारिश कर रहे हैं। इससे धनधान्य और आने आने वाला समय अच्छा होेगा।

मथुरा के ये क्षेत्र बने ताल तलैया

वहीं दोपहर से ही बारिश शुरू होते ही शहर के होलीगेट, छत्ता बाजार, आर्यसमाज रोड, चौक बाजार, घीयामंडी, स्वामीघाट, सदर बाजार, डीगगेट, मिलन तिराहा, मसानी चौराहा, जयसिंहपुरा, सदर बाजार, महोली रोड, कृष्णानगर, आंबेडकर कॉलोनी, मधुवन एंक्लेव, डैपिंयर नगर, क्वालिटी चौराहा, भूतेश्वर रेलवे पुल, नया बस अड्डा रेलवे पुल, पुराना बस अड्डा रेलवे पुल, कच्ची सड़क, वृंदावन गेट, महाविद्या कॉलोनी, सरस्वती कुंड आदि इलाके ताल-तलैया बन गए। लगातार बारिश के कारण लोगों को निकलने में काफी परेशानी का सामना करना पड़ा।

बारिश ने बढ़ाई दुकानदारों की चिंता


लंबे समय बाद खुले बाजार से दुकानदारों के चेहरे खिले थे। लेकिन बारिश और उससे होने वाले जलभराव से दुकानदारों अपनी दुकान की चिंता सताने लगी। कारण कि शहर के बाजार की दुकानों में पानी भर जाता है। इसके कारण लाखों रुपये का नुकसान भी इन दुकानदारों को झेलना पड़ता है। बारिश में कई दुकानदार अपनी दुकान का हाल जानने के लिए पहुंच गए। इन दुकानदारों ने दुकान में पानी न घुस सके, इसका इंतजाम किया।

धान की फसल को होगा फायदा

न सिर्फ मथुरा-वृंदावन बल्कि आसपास के क्षेत्रों में भी मेघ बरसे। इस बारिश से धान की फसल को लाभ होने की उम्मीद है। किसान महाराम सिंह ने बताया कि बारिश से फसल को कोई नुकसान होने वाला नहीं है। धान की फसल को फायदा होगा। शहर के साथ साथ मांट, नौहझील, राया, फरह, सौंख, टैंटीगांव में भी बारिश होने से लोगों ने राहत ली है।

RELATED ARTICLES
- Advertisment -

Most Popular

Recent Comments