Monday, April 22, 2024
Homeन्यूज़जीएलए विधि के छात्रों ने लिया अदालती कार्यवाही का प्रशिक्षण

जीएलए विधि के छात्रों ने लिया अदालती कार्यवाही का प्रशिक्षण

मथुरा : विधि के छात्र-छात्राओं को प्रतिस्पर्धी तरीके से कानूनी प्रणाली से अवगत कराने के उद्देश्य से जीएलए विश्वविद्यालय के विधि संस्थान ने दो दिवसीय इन्ट्रा मॉक ट्रायल एडवोकेसी (अदालती कार्यवाही) का प्रषिक्षण का आयोजन किया। इसमें विधि के छात्रों की 13 टीमों ने प्रतिभाग किया।

विजयी छात्र-छात्राओं को पुरस्कार राशि, ट्रॉफी एवं प्रशस्ति पत्र देकर सम्मानित किया गया। प्रतियोगिता के प्रथम दिन रिसर्च टेस्ट, प्रारंभिक राउंड और क्वार्टर फाइनल का आयोजन हुआ, जिसमें न्यायाधीश के रूप में जिला एवं सत्र न्यायालय मथुरा के अधिवक्तागण सहाब सिंह देश्वर, मधुवन दत्त चतुर्वेदी, केतन श्रीवास्तव एवं हरेन्द्र शर्मा उपस्थित रहे।

द्वितीय दिवस में सेमीफाइनल व फाइनल राउंड का आयोजन किया गया, जिसमें न्यायाधीष के रूप में सर्वोच्च न्यायालय के अधिवक्तागण डा. संदीप सिंह, डा. विष्णु शर्मा, विक्रांत राना, मंदीप बैसला उपस्थित रहे। उपस्थित अतिथि अधिवक्ताओं ने सर्वप्रथम छात्र-छात्राओं को न्यायालय की प्रक्रिया और उनकी नियमावली से अवगत कराया। तत्पश्चात कई मुद्दों पर तीखी बहस देखने को मिली और अंत में पूर्ण निष्पक्षता से टीमों का मूल्यांकन किया। कार्यक्रम के प्रायोजक लॉ वीएस संस्था नई दिल्ली, लैक्सिस नैक्सिस नई दिल्ली और एससीए लीगल एलएलपी मथुरा ने अपनी सहभागिता दिखाते हुए प्रतियोगिता को और अधिक सफल बनाने में मदद की।

विधि संकाय के डीन प्रोफेसर सोमेश धमीजा ने सभी विजेताओं और प्रतिभागियों को बधाई दी और उन्हें भविश्य में ऐसे सभी आयोजनों में भाग लेने और अपने वकालत कौषल को निखारने के लिए प्रेरित किया।

एसोसिएट डीन एवं विभागाध्यक्ष डा. आलोक वर्मा ने प्रतिभागियों को संबोधित करते हुए बताया कि इस प्रकार प्रतियोगिताओं से विधि के विद्यार्थियों को वकालत समझने का अवसर मिलता है। मूट कोर्ट कमेटी के सह-संयोजक डा. अरुनान्शु दुबे ने 2 दिवसीय कार्यक्रम की रिपोर्ट प्रस्तुत की। अंत में मूट कोर्ट कमेटी की सह-संयोजक दिव्या शर्मा ने धन्यवाद ज्ञापित किया। प्रतियोगिता को सफल बनाने में कृति शर्मा, दिव्या शर्मा एवं विधि संकाय के सभी सदस्यों का सराहनीय योगदान रहा।

RELATED ARTICLES
- Advertisment -

Most Popular

Recent Comments