Sunday, July 21, 2024
Homeन्यूज़न्यूज़राधारानी के महल में आज खेली जाएगी लड्डू होली, होली का आमंत्रण...

राधारानी के महल में आज खेली जाएगी लड्डू होली, होली का आमंत्रण लेकर नंदगांव जाएंगी सखी

बरसाना। राधारानी के मंदिर में आज लड्डू होली खेली जाएगी। इसमें दस टन लड्डू लुटाए जाएंगे। पांडे लीला के संग-संग गुलाल अबीर उड़ाया जाएगा। इसकी तैयारी अंतिम चरण में है। लठामार होली से एक दिन पहले होने वाली लड्डू होली से पहले ही मंदिर परिसर व्यापक स्तर पर तैयारियां चल रही हैं। परिसर को सजाया जा रहा है। अबीर-गुलाल मंदिर के बालकनी में रखा गया है। शाम को लड्डू होली खेली जाएगी। 10 टन लड्डू लुटाए जाएंगे।

सेवायत किशोरी गोस्वामी ने बताया कि श्रीजी मंदिर से होली का आमंत्रण लेकर राधा दासी सखी नंदगांव जाएंगी। इसके बाद होली के न्यौता स्वीकार कर लिए जाने की खबर देने के लिए नंदगांव का पांडा आएगा। जो राधारानी को बताएगा कि कान्हा अपने ग्वाल बाल के साथ होली खेलने आ रहे हैं। इसी खुशी में राधारानी लड्डुओं की वर्षा करेंगे और पांडा नृत्य करेगा। इस अद्भुत होली में शामिल होने के लिए हजारों लोग मंदिर में एकत्र होंगे। उनके ऊपर अबीर गुलाल उड़ाया जाएगा। प्रसाद रूप में लड्डू बरसाए जाएंगे।


बबलू हलवाई ने बताया, करीब 10 टन बेसन के बूंदी के लड्डू तैयार किए जा रहे हैं। इनकी पैकिंग की जा रही है। लड्डू होली की तैयारी कर ली गई है। करीब दस कुंतल गुलाल अबीर मंगाया गया है। मंदिर को सजाया जा रहा है। परिसर में भीड़ को नियंत्रण करने के लिए बेरिकेडिंग कराई गई है। सुरक्षा गार्ड तैनात किए गए हैं। संजय गोस्वामी एडवोकेट, मंदिर रिसीवर नहीं आता नंदगांव का पांडा परंपरानुसार कान्हा की ओर से होली की स्वीकृति का संदेशा लाने वाला पांडा करीब डेढ़ सौ वर्ष पहले नंदगांव से आता था।

एक बार मध्य प्रदेश की रीवां रियासत के महाराजा लड्डू होली देखने आए थे। महाराजा पांडा के नृत्य पर भाव विभोर हो गए। उन्होंने अपने समस्त राजसी जेवर पांडा को भेंट कर दिए। इतने पर भी महाराजा का मन नहीं भरा तो पांडा को सोने के सिक्के भेंट किए। उनको पांडा उठा न सका। अगली बार आने का प्रण लेकर महाराजा लौट गए।
बरसाना मंदिर का पुजारी धनवर्षा से इतना चमत्कृत हुआ कि अगली साल उसने नंदगांव से पांडा नहीं बुलाया। स्वयं पांडा का रूप धर कर नाचना शुरू कर दिया। पुजारी का दुर्भाग्य यह रहा कि महाराजा फिर होली देखने नहीं आए। अब मंदिर का पुजारी ही पांडा बनकर इस अवसर पर नृत्य करता चला आ रहा है।

RELATED ARTICLES
- Advertisment -

Most Popular

Recent Comments