Monday, September 27, 2021
Homeस्वास्थ्यNovel Coronaसबसे ज्यादा घातक थे अप्रैल और मई का महीना, इन 2 महीनों...

सबसे ज्यादा घातक थे अप्रैल और मई का महीना, इन 2 महीनों में कोरोना से 1.66 लाख मौतें

नई दिल्ली। कोरोना महामारी की दूसरी वेव में दो माह सबसे ज्यादा जानलेवा साबित हुए। ताजा सरकारी आंकड़ों के अनुसार, अप्रैल 2020 के बाद से भारत में कोरोना से हुई आधी मौतें सिर्फ दो महीनों यानी अप्रैल और मई 2021 में हुईं। ये आंकड़े इस बात पर प्रकाश डालती है कि दो महीने कितने घातक थे और इसका राज्यों पर किस तरह का प्रभाव पड़ा।

भारत में अप्रैल और मई में कोरोना से हुई मौत का 41 प्रतिशत महाराष्ट्र, कर्नाटक और दिल्ली से आया। तीन राज्यों ने इस अवधि में सबसे अधिक मौतें दर्ज कीं। दिल्ली, कर्नाटक और पंजाब में 14 महीनों में कुल कोविड की मौत का लगभग 60 प्रतिशत अप्रैल और मई में हुआ। सूचना के अधिकारी के तहत सरकार द्वारा जारी आंकड़ों से इसका खुलासा हुआ है।

सिर्फ अप्रैल महीने में 1.20 लाख मौतें

एनसीडीसी ने कहा कि अप्रैल 2020 और मई 2021 के बीच कुल 329,065 कोविड मौतों में से, 166,632 अप्रैल और मई 2021 में हुईं। मई में 120,770 लोगों की मौत हुई और अप्रैल में 45,882 लोगों की जान गई। जून में, 69,354 कोविड मौतें दर्ज की गईं। अप्रैल-मई से पहले, एक महीने के लिए सबसे अधिक मौतें सितंबर 2020 में 33,035 हुई थीं। सितंबर-अक्टूबर को कोरोना की पहली लहर का चरम माना जाता था। उसके बाद फरवरी 2021 में इस महामारी से 2,777 मरीजों की जान गई।

RELATED ARTICLES
- Advertisment -

Most Popular

Recent Comments