Sunday, July 21, 2024
Homeन्यूज़न्यूज़भारतीय रेल बजट 2023 में क्या है खास, जानिए

भारतीय रेल बजट 2023 में क्या है खास, जानिए


मथुरा। केंद्रीय वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण ने केंद्रीय बजट 2023-24 में भारतीय रेलवे के लिए 2.40 लाख करोड़ रुपये का पूंजी परिव्यय आवंटित किया है। यह अब तक का सर्वाधिक परिव्यय वित्तीय वर्ष 2013-14 में किए गए परिव्यय का लगभग नौ गुना है।

भारतीय रेल बजट 2023 की मुख्य विशेषताएं-

  1. 1,275 रेलवे स्टेशनों का कायाकल्प यात्री सुविधाओं में वृद्धि अमृत भारत योजना –
    रेल मंत्री अश्विनी वैष्णव ने – ‘विरासत भी विकास भी’ की थीम पर अमृत भारत योजना के तहत देश भर में 1,275 रेलवे स्टेशनों का पुनर्विकास करने की घोषणा की है। माननीय वित्त मंत्री श्रीमती निर्मला सीतारमण द्वारा की गई बजट घोषणा बेहद प्रगतिशील है और सरकार ने सप्तऋषि (केंद्रीय बजट 2023 की 7 प्राथमिकताएं (1) (समावेशी विकास), (ii) (वंचितों को वरीयता), (ii) (बुनियादी ढांचा और निवेश), (iv) (क्षमता विस्तार) (v) (हरित विकास) (vi) (युवा शक्ति), (vii) (वित्तीय क्षेत्र) के रूप में बुनियादी ढांचे को प्राथमिकता देकर अर्थव्यवस्था की मदद करने के कदमों पर अपना ध्यान केंद्रित करना जारी रखा है। केंद्रीय बजट 2023 में, भारतीय रेलवे के सभी क्षेत्रों में रेलवे के बुनियादी ढांचे के विकास पर ध्यान केंद्रित करने की संभावना है। इससे यात्री सुविधाओं में भी इजाफा होगा। वर्ष 2022-23 में आगरा छावनी (एनएसजी-2), मथुरा (एनएसजी-2) स्टेशनों का प्रमुख उन्नयन स्वीकृत है। अमृत भारत स्टेशन योजना के तहत आगरा मंडल के 15 स्टेशनों का चयन किया गया है| जिसमें यात्री सुविधाएं, विशाल प्रवेश द्वार, लिफ्ट और एस्केलेटर इत्यादि प्रदान करने की योजना है।
    क्र.सं. स्टेशन का नाम स्टेशन वर्गीकरण
    1 आगरा किला एनएसजी-3
    2 राजा की मंडी एनएसजी-4
    3 कोसीकलां एनएसजी-4
    4 ईदगाह एनएसजी-5
    5 धौलपुर एनएसजी-5
    6 अछनेरा एनएसजी-5
    7 खेड़ली एनएसजी-5
    8 महवा मंडावर रोड एनएसजी-5
    9 होडल एनएसजी-5
    10 भूतेश्वर एनएसजी-5
    12 गोवर्धन एनएसजी-5
    13 डीग एनएसजी-6
    14 फतेहपुर सीकरी एनएसजी-6
    15 गोविन्दगढ़ एनएसजी-6
    16 फतेहाबाद एनएसजी-6
  2. वंदे भारत एक्सप्रेस ट्रेनों का संचालन
    भारतीय रेलवे, दुनिया का चौथा सबसे बड़ा रेलवे नेटवर्क है, जिसने अपनी सेवाओं और बुनियादी ढांचे में सुधार के लिए कई विकास किए हैं। एक प्रमुख विकास “वंदे भारत एक्सप्रेस”, भारत की पहली सेमी-हाई स्पीड ट्रेन का शुभारंभ है। 160 किमी/घंटा तक की गति तक पहुंचने वाली इस ट्रेन का निर्माण भारतीय रेलवे की इंटीग्रल कोच फैक्ट्री द्वारा स्वदेशी रूप से किया गया है। अगले तीन वर्षों के दौरान 400 नई पीढ़ी की वंदे भारत एक्सप्रेस ट्रेनों का विकास और निर्माण किया जाएगा। स्लीपर क्लास के साथ नई वन्दे भारत ट्रेनों और वंदे भारत 2.0 के लिए भी अधिक धनराशि प्रदान की जाएगी। वन्दे भारत एक्सप्रेस ट्रेनों की शुरुआत के साथ, भारतीय रेलवे ने गतिशीलता के एक नए युग में प्रवेश किया है। राजधानी एक्सप्रेस ट्रेनों के बाद, गति और बेहतर सुविधा के मामले में वन्दे भारत एक्सप्रेस एक बड़ा परिवर्तन है। ट्रेन अपने तेज त्वरण के कारण 160-180 किमी प्रति घंटे की अधिकतम गति प्राप्त कर सकती है। जिससे यात्रा का समय 25 प्रतिशत से 45 प्रतिशत तक कम हो जाएगा।
    वंदे मेट्रो ट्रेन – वंदे मेट्रो ट्रेन को कम दूरी वाले शहरों के बीच में चलाया जाएगा। जिसका फायदा दो शहरों के बीच यात्रा करने वाले लोगों को सबसे अधिक मिलेगा, क्योंकि इसके चलते लोग कम समय में अपने घर या ऑफिस जा सकेंगे। इसके साथ ही ट्रेन के चलने से ट्रैफिक की समस्या से भी निजात मिलेगी और लोगों का सफर भी आसान बनेगा।
  3. ट्रेन संचालन में सुरक्षा बढ़ाने के लिए ‘कवच’ सुविधा का विस्तार
    कवच एक स्वदेशी स्वचालित ट्रेन सुरक्षा प्रणाली भारतीय रेलवे ने स्वदेशी रूप से एक स्वचालित ट्रेन सुरक्षा प्रणाली विकसित की है कवच (ट्रेन टक्कर बचाव प्रणाली) मानव त्रुटि के कारण होने वाली दुर्घटनाओं को रोकता है जिसके परिणामस्वरूप सिग्नल पासिंग खतरे और ओवर स्पीडिंग में होती है। भारतीय रेलवे द्वारा सुरक्षा को सर्वोच्च प्राथमिकता दी जाती है। इसी कड़ी में हादसों को रोकने के लिए कवच लगाया जा रहा है। इसके लाभों में टर्नआउट के दृष्टिकोण पर ब्रेक के स्वचालित अनुप्रयोग द्वारा ट्रेनों की गति को नियंत्रित करना, कैब में सिग्नल पहलुओं को दोहराना शामिल है, जो उच्च गति और धुंध भरे मौसम के लिए उपयोगी है, और समपार फाटकों पर ऑटो सीटी बजाता है। भारतीय रेलवे कवच को चरणबद्ध तरीके से लागू कर रहा है। 23 दिसंबर, 2022 तक कवच को 77 लोकोमोटिव के साथ दक्षिण मध्य रेलवे पर 1,455 रूट किलोमीटर के लिए तैनात किया गया है। वर्तमान में, दिल्ली-मुंबई और दिल्ली-हावड़ा कॉरिडोर (3000 रूट किमी) पर कवच का काम चल रहा है। इस बजट में कवच के कवरेज को बढ़ाने का लक्ष्य रखा गया है।
    आगरा मंडल में मथुरा – पलवल खंड में कवच प्रणाली को विकसित किया जा रहा है |
  4. भारतीय रेलवे नेट जीरो कार्बन उत्सर्जक बनने की योजना बना रहा है-
    भारतीय रेलवे ने 2030 तक नेट जीरो कार्बन एमिटर हासिल करने का लक्ष्य रखा है। इसने अपने कार्बन फुटप्रिंट और आयातित ईंधन पर निर्भरता को कम करने की योजना बनाई है जिससे कीमती विदेशी मुद्रा की बचत होगी।
  5. ट्रेनों और रेलवे स्टेशनों की सफाई-
    ट्रेनों और रेलवे स्टेशनों को चालू रखने की भारतीय रेलवे की पहल ने पिछले आठ वर्षों में जोर पकड़ा है। रेलवे ने स्टेशनों पर यंत्रीकृत सफाई ठेकों और ट्रेनों में कोचों, स्टेशनों पर कूड़ा बीनने और कचरा निपटान ठेकों की संख्या में वृद्धि की है, और ऑन बोर्ड हाउसकीपिंग सर्विस (ओबीएचएस) ने ट्रेनों की संख्या में वृद्धि की है।
  6. आगरा मंडल की प्रमुख योजनायें-

क्र.सं. कार्य का नाम पूंजी
1 मथुरा जं. यार्ड रिमोडलिंग एवं भूतेश्वर में. फ्लाई ओवर 123 करोड़
2 भांडई फ्लाई ओवर 1 करोड़
3 धौलपुर – सरमथुरा गेज कन्वर्जन 105 करोड़
4 आगरा फोर्ट – बांदीकुई डबलिंग 70 करोड़
5 यमुना ब्रिज 36 करोड़
6 यमुना ब्रिज यार्ड रिमोडलिंग 2 करोड़

  1. एक स्टेशन एक उत्पाद योजना –
    स्थानीय व्यवसायों और आपूर्ति श्रृखलाओं की सहायता के लिए इस योजना को लोकप्रिय बनाया जाएगा। आगरा मंडल में स्थानीय कारीगरों की बेहतर आजीविका और कल्याण के उद्देश्य से OSOP स्टॉल 07 स्टेशनों पर काम कर रहे हैं। भविष्य में योजना के प्रचार-प्रसार के लिए मंडल के और स्टेशनों की पहचान की जा रही है। यह योजना भारत की समृद्ध विरासत को प्रदर्शित करने के साथ-साथ भारत सरकार के ‘वोकल फॉर लोकल’ विजन को बढ़ावा देती है।
  2. ये स्टेशन हैं: 1. आगरा छावनी 2. मथुरा 3. आगरा किला 4. कोसीकलां 5. खेड़ली 6. सरमथुरा 7. ईदगाह स्टेशन शामिल है|

RELATED ARTICLES
- Advertisment -

Most Popular

Recent Comments